Prana Kriya

Moving the life within!

A Self-Guiding meditative technique to align the Ajna Chakra for clarity and wisdom.

Prana Kriya is a uniquely designed meditative technique which uses one’s breath to create good energy. The rhythmic breathing technique designed by Sri GURU elevates you to a feeling of fulfilment.

Designed & guided by

Sri GURU

Prana carries the consciousness of the human mind. Prana is the source of energy and Pranic health is of supreme importance for good energy and positivity.

SRI GURU

Sri Guru is the visionary Spiritual Master who is guiding thousands of seekers on their inner journeys through Her intellectual brilliance and meditative grace. She has woven together simplistic science and right breathing techniques for the seekers of inner consciousness and meditative bliss.

As a realised Spiritual Guru, SRI GURU has revived the essence of the true Spirituality, connecting the dots between varying concepts and laws of the Universe and instilling back a path of clarity that could be followed by any human to experience that which is fundamental - True Happiness!

Why should you do Prana Kriya?

The benefits of Prana Kriya are for all who experience drain of energy. It is specifically designed for young working professionals, home makers and elderly. Stress and overanalysing life can lead one into a constant discharge of energy. Prankriya helps in retaining that energy and utilising to generate positive thoughts.

Prana Kriya MASTERCLASS
by SRI GURU

Past Event Clicks

Frequently Asked Questions

ENGLISH

Yes, SwaRaj Kriya is a meditation practice and can be started by anyone new on this spiritual path but have the zeal to explore another dimension within Self.

The tutorials shed light on every perspective of doing this kriya. One has to go through the entire tutorials to get initiated in the Kriya.

Even if you are following some other Guru, you can surely follow SwaRaj Kriya. It is a yogic practice to explore within. It includes focus on energy centres. If you are already doing any sadhana that includes energy centres, we suggest you not to start with SwaRaj Kriya. But if your current sadhana do not include energy centres and focus more on breath or body watch, you can start with SwaRaj Kriya.

At SRM, we strongly believe that any yogic practice can lead you to the desired result only when there is reverence and faith in the propounder of the technique. Although the entire yogic practices finds there roots in yoga sutras but the present day Master opens its deeper dimensions clearly to us. The only focus of SwaRaj Kriya is self-realisation and in no way compromising at relaxation or medication. So, it is well desired from the seeker to know the step-by-step approach of SRM that advances into exploring our true self through meditation technique updated regularly under the name of SwaRaj Kriya.

There is an entire process listed on our website from claiming to procuring SwaRaj Kriya. You can follow the process that includes watching of various Satsangs followed by going thoroughly through the tutorials and filling up the questionnaire.

Yes, the SRM council looks forward for the seekers to come under the direct aura of our Sadguru Sri Guru at least

once a year. We have regular Satsangs at our base New Delhi, India and we hold spiritual drives at regular interval to various major cities in India and abroad. Seekers are expected to at least attend our Annual meet that brings platform for direct meet with Sri Guru. The Annual meet is expected in last week of December every year where the SwaRaj Kriya is also upgraded to next level.

There is no cost included in getting the Kriya. At SRM, we believe in spreading and sharing the spirituality instead of selling. So, all the discourses, bhakti and guided meditations are open for all seekers

For experiencing the transformation within, we suggest you to do the Kriya for at least six months. You can visibly experience change in your physical, mental and intellectual behaviour.

Yes, Sri Guru has a very liberal attitude regarding this. After six months of dedicated practice, if you still do not feel any major transformation within you, you can return it to SRM through your designated  group leader.

SwaRaj Kriya is a guided mediation technique that transforms us at the subtler levels. You have to understand the Kriya through tutorials and then only flow with the instructions guided in our recorded track. It is preferred to perform any meditation technique at same place and time to create a physical energy centre.

Every SwaRaj Kriya holder is under the guidance of designated Team Leaders. The Team leaders are the volunteers who have gained clarity on various aspects of SwaRaj Kriya by following it since several years. Seekers can contact them in case of any confusion or expression of experience, if they feel required.

No, you cannot share the Kriya with anyone. Every individual must gains its clarity and understanding on their own and move ahead on their journey of Self-exploration.

There are few medical conditions where we suggest as follows:

  1. If you have any major spine issues or surgery performed in spine, you should not do the Kriya.
  2. If you have any neurological disorders, we suggest you to clearly express directly to Sri Guru to get the guidance.
  3. In the last trimester of pregnancy, the Kriya is substituted by another guided meditation for the benefit of mother and baby.
  4. If you are highly asthmatic, the breathing pattern in the Kriya has to be altered by the guideline of your team leader.

Otherwise, in all other conditions, it is absolutely safe to do the Kriya.

Sri Guru claims that after six months of dedicated practice a seeker is bound to experience a major shift in his/her personality. The change that naturally occurs within us with age and experience of life is expected to blossom from within in a very short span of time. You have to undergo the Kriya to experience this spiritual shift

With thanks to today’s technology boon, the Kriya is on App that plays flawlessly on iOS and Android phones. You can download the app and get the updates on Kriya as well as other guided meditation from Sri Guru.

हिंदी

हाँ, स्वराज क्रिया एक ध्यान विधि है, जिसे आध्यात्मिक यात्रा पर कदम रखने वाला हर एक नया व्यक्ति कर सकता है, बशर्ते उसके अपने अंदर कुछ नया जानने का उत्साह हो।

श्री गुरु द्वारा दिए गए शिक्षण (tutorials) इस क्रिया को करने के हर एक पहलू को प्रकाशित करता हैं इसलिए इस क्रिया को लेने से पूर्व सारे tutorials को देख कर समझना आवश्यक है।

यदि तुम किसी अन्य गुरु का अनुकरण करते हो तब भी तुम स्वराज क्रिया कर सकते हो। अंतरशोध के लिए यह एक यौगिक अभ्यास है। इस सम्पूर्ण प्रक्रिया में शरीर में रहे ऊर्जा के केन्द्रों पर ध्यान केंद्रित किया जाता है। यदि तुम ऐसी कोई भी साधना कर रहे हो जिसमें ऊर्जा के केंद्र समाहित हैं, तब तुम स्वराज-क्रिया मत करो। यदि तुम्हारी वर्तमान की साधना में ऊर्जा-केंद्र समाहित नहीं हैं और तुम श्वासों या शरीर पर ही अपना ज्यादातर ध्यान केंद्रित करते हो, तब तुम स्वराज-क्रिया कर सकते हो।

SRM संस्था में हमारा यह विश्वास है कि कोई यौगिक अभ्यास तुम्हें इच्छित परिणाम तक तब ही पहुँचा सकता है जब तुम्हें विधिदाता के प्रति पूर्ण विश्वास और श्रद्धा हो। यद्यपि योग-सूत्रों में सभी यौगिक विधियाँ दी हुई हैं लेकिन हमारे प्रत्यक्ष सद्गुरु इन विधियों के कुछ गहरे आयामों को हमें स्पष्टता से समझाते हैं। स्वराज-क्रिया का एकमात्र ध्येय आत्म-अनुभव है न कि शारीरिक व मानसिक विश्राम। अतः प्रत्येक साधक को आत्म-विकास हेतु निर्देशित साधना-पद्यति के अनुसार ही जाग्रति पूर्वक कदम-दर-कदम चलना चाहिए।

इस क्रिया को प्राप्त करने हेतु हमारी website पर इसकी पूरी प्रक्रिया दी हुई है। तुम इस प्रक्रिया का अनुकरण कर सकते हो। इस प्रक्रिया में तुम्हें कुछ सत्संग और tutorials देखने होंगे और तत् पश्चात् प्रश्नावली को भरना होगा।

हाँ जी, SRM council ने यह निश्चय किया है कि साधक को साल में कम से कम एक बार हमारे सद्गुरु श्री गुरु के प्रत्यक्ष समागम में आना अनिवार्य है। नियमित रूप से हमारे सत्संग नई-दिल्ली भारत में होते हैं और नियमित अवधि के अंतर पर भारत और विदेश में धर्म यात्राएँ होती रहती हैं। खोजी व्यक्ति कम-से-कम वार्षिक-सम्मेलन में अवश्य आए जहाँ वह श्री गुरु से प्रत्यक्ष मुलाकात कर सकता है। यह वार्षिक सम्मेलन हर वर्ष दिसम्बर के अंतिम सप्ताह में होता है जिसमें स्वराज क्रिया भी अगले स्तर पर उन्नत की जाती है।

नहीं, कोई भी मूल्य नहीं देना होगा। SRM अध्यात्म को सबके साथ बाँटता है और फैलाता है; बेचता नहीं है। इसलिए सभी सत्संग, भक्ति और निर्देशित ध्यान सभी जिज्ञासुओं के लिए खुले हैं।

स्वयं के अंदर रूपांतरण को महसूस करने के लिए यह सुझाव दिया जाता है कि कम से कम छः महीने यह क्रिया करें। तुम्हें स्वयं ही अपने शारीरिक व बौद्धिक स्तर पर बदलाव महसूस होगा।

ज़रूर, इस बारे में श्री गुरु का बहुत ही उदार रवैया है। छः महीने के समर्पित अभ्यास के बाद यदि तुम अपने अंदर कोई प्रमुख रूपांतरण नहीं अनुभव करते हो तो तुम यह क्रिया अपने निर्दिष्ट ग्रुप लीडर के माध्यम से SRM को लौटा सकते हो।

स्वराज-क्रिया निर्देशित ध्यान-विधि है जो हमारे भीतर सूक्ष्म स्तर पर रूपांतरण लाती है। तुम्हें पहले tutorials के द्वारा इस क्रिया को समझना होगा और उसके बाद ही रिकॉर्ड किए हुए ध्यान-प्रयोगों में दिए गए दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए ध्यान में बहना होगा। यह सलाह दी जाती है कि तुम किसी भी ध्यान-विधि को एक ही स्थान व एक ही समय पर करो जिससे उस स्थान पर ऊर्जा का केंद्र बन जाए।

स्वराज-क्रिया को लेने वाला प्रत्येक साधक निर्दिष्ट ग्रुप लीडर से मार्गदर्शन लेता है। ग्रुप लीडर स्वयंसेवक होते हैं जिन्होंने कुछ सालों में स्वराज-क्रिया करते हुए अलग-अलग पहलुओं पर स्पष्टता हासिल कर ली है। साधक को यदि कोई दुविधा है या वह अपना अनुभव बताना चाहता है तब वह ग्रुप लीडर से मिल सकता है।

नहीं, स्वराज क्रिया के संबंध में कोई भी बातचीत करना या उनसे बाँटना अनुचित है। इस क्रिया को खुद करके क्रिया की समझ और स्पष्टता हर एक साधक की अपनी हो और वह ‘स्वयं की खोज’ की इस यात्रा पर आगे बढ़े।

हाँ, निम्नलिखित मेडिकल हालात में क्रिया नहीं करनी चाहिए –

  1. यदि रीढ़ की हड्डी में कोई दिक्कत हो या सर्जरी हुई हो तब यह क्रिया नहीं करनी चाहिए।
  2. यदि तुम्हें मस्तिष्क संबंधी कोई विकार है तो सही निर्देशन पाने के लिए उसे श्री गुरु को पूरी स्पष्टता से बता दें।
  3. गर्भधारण के अंतिम तीन महीनों में स्वराज-क्रिया की जगह दूसरी निर्देशित ध्यान विधि दी जाती है जिससे माँ और बच्चा दोनों को लाभ हो।
  4. यदि तुम्हें अस्थमा की बीमारी है तो स्वराज-क्रिया में दिए गए श्वासोश्वास के पैटर्न को तुम अपने ग्रुप लीडर की मदद से बदल सकते हो। 
  5. अन्यथा, शेष सभी अवस्थाओं में यह क्रिया बिलकुल हानि रहित है।

श्री गुरु का अपने अनुभव के आधार पर यह दावा है कि यदि पूर्ण समर्पण से यह क्रिया छः महीने करी जाए तो साधक के व्यक्तित्व में अवश्य ही कोई महत्वपूर्ण बदलाव आएगा ही आएगा। जो बदलाव बढ़ती उम्र और अनुभव के आधार पर किसी व्यक्ति में आते हैं वे बदलाव इस क्रिया को करने से बहुत थोड़े से समय में आ जाते हैं। साथ ही आध्यात्मिक विकास भी होता है।

धन्यवाद है तकनीक का। क्रिया app पर है जो ios और Android phones पर बिना किसी दिक्कत के चलती है। आप app download करें जिससे क्रिया के updates आप को मिल जाएँगे और साथ ही श्री गुरु द्वारा निर्देशित विविध ध्यान-विधियाँ भी उसी app में सम्मिलित होंगी।